Desires

Just another weblog

29 Posts

15493 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2013 postid : 64

हम आज़ाद हैं... Jagran Junction Forum

Posted On: 17 Aug, 2011 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

15 अगस्त, स्वतंत्रता दिवस… हम आज़ाद हैं

रहें गौरवान्वित कि हम आज़ाद हैं…

एक लकीर खींचकर मिली थी आज़ादी

हर जगह लकीर खींचने को हम आज़ाद हैं…

छीनी थी आज़ादी उन गैरों से, लड़-झगड़ कर

आज आपस में ही लड़ने को हम आज़ाद हैं…

खुले असमान में खुश हो उड़ने की तमन्ना थी

आज सर से छत छिन जाने से डरते हैं, कि हम आज़ाद हैं…

बिखेरे थे रंग आज़ादी के, अपना सब कुछ लुटाकर

आज अपने लिए लूट रहे हैं सबका, कि हम आज़ाद हैं…

पहले हर बात ध्यान से कही-सुनी जाती थी

अब “हटाओ/ बकवास है”… तभी तो हम आज़ाद हैं…

नहीं जानते किन शर्तों में या क्या-क्या खोकर मिली थी आज़ादी

हम जानते हैं इतना बस, कि हम आज़ाद हैं…

देखते होगे कहीं से सोचते तो होगे तुम भी

क्या यही होती है आज़ादी? और क्या हम वाकई आज़ाद हैं?

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1165 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

santosh ks के द्वारा
July 5, 2014

great article

    Caelyn के द्वारा
    July 12, 2016

    Your story was really inmrofative, thanks!

Sanjeev Kumar Verma के द्वारा
August 22, 2011

We are not free in true sense. We are bound by so many obstacles of ever growing poverty, illiteracy, unemployment, crimes, and the worst of all – Corruption.

    Matee के द्वारा
    July 12, 2016

    I love reading these articles because they’re short but inemtoarivf.

abodhbaalak के द्वारा
August 19, 2011

सोते से जगाने वाली रचना, बहुत सुन्दर, पर क्या हम आज़ादी के मतलब और महत्व समझते भी हैं ? http://abodhbaalak.jagranjunction.com/

    Amberly के द्वारा
    July 12, 2016

    Every one acgldwneokes that men’s life is not very cheap, nevertheless different people require money for different stuff and not every one earns big sums cash. Hence to receive fast and just student loan would be a proper way out.

surendra shukla Bhramar5 के द्वारा
August 17, 2011

पूजा जी बहुत खूब , सुन्दर सन्देश , व्यंग्य का पुट लिए ..अभी भी इन भ्रष्टाचारियों के दिल में तीर न चुभे तो और क्या क्या करना होगा ? ..सुन्दर रचना छीनी थी आज़ादी उन गैरों से, लड़-झगड़ कर आज आपस में ही लड़ने को हम आज़ाद हैं… खुले असमान में खुश हो उड़ने की तमन्ना थी आज सर से छत छिन जाने से डरते हैं, कि हम आज़ाद हैं… भ्रमर ५

    Pooja के द्वारा
    August 19, 2011

    बहुत-बहुत धन्यवाद सुरेन्द्र जी… जी… सब सिर्फ कोशिशों में जुटे हैं की कुछ तो हो जाये… बस उन्हीं कोशिशों में एक तिनका जोड़ने की कोशिश मैनें भी की…

    Marilee के द्वारा
    July 12, 2016

    Now that’s suetlb! Great to hear from you.

संदीप कौशिक के द्वारा
August 17, 2011

हमारी आज की पीढ़ी को आज़ादी मुफ़्त में मिली हुई ख़ैरात की भांति लगती है पूजा जी और रही सही कसर आज के इस दूषित सामाजिक परिदृश्य ने पूरी कर दी है । :( लेकिन अब बदलाव हमारा रास्ता देख रहा है…..और वो होकर रहेगा !! जय हिन्द ! जय भारत !! :)

    Pooja के द्वारा
    August 19, 2011

    जी… बदलाव तो आकर ही रहेगा… आज नहीं तो कल… पर डर यही है की जिस तरह आज बुराइयां फैलीं हैं तब भी यही हाल न रहे… क्योंकि अच्छाई और बुराई दोनों एक साथ ही तो पनपतीं हैं…

अविनाश वाचस्‍पति के द्वारा
August 17, 2011

आजा दी पूजा दी। सचमुच हम आजाद हैं।

    Pooja के द्वारा
    August 19, 2011

    Thank you so much Uncle… आप लोग यूँहीं आशीर्वाद बनाये रखें…

Nikhil के द्वारा
August 17, 2011

नहीं हम आज़ाद नहीं हैं, लेकिन गर्जन जो आपने किया और जो गर्जन इस मंच पर गूंज रहा है वो आजादी दिलाएगा, हाँ ज़रूर दिलाएगा. जय हिंद!

    Pooja के द्वारा
    August 19, 2011

    बहुत-बहुत धन्यवाद निखिल जी, शायद ये गर्जन अन्दर कहीं मन में थी… पर अब पानी सर के ऊपर हो गया तो सहन भी नहीं हुआ… जय हिंद…

    Ival के द्वारा
    July 12, 2016

    Many thanks for your efforts which you have invest this kind of. worth it you just read details.? A wonderful exile? azines life is827n&1#;t living.? through Leonidas relating to Tarentum.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran