Desires

Just another weblog

29 Posts

15493 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2013 postid : 20

आखिर, आज तुम आ ही गए...

Posted On: 17 Jun, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

“आखिर… आज… इतने दिनों का इंतज़ार ख़त्म हो ही गया…
आखिर… आज, तुम आ ही गए…
न जाने कितना इंतज़ार करना पड़ा था इस दिन का… लगता था कि न जाने तुम आओगे भी या नहीं…
रोज़ T.V. पर खबरें सुनते थे, और रोज़ तुम्हारे आने का इंतज़ार करते थे… तुम्हारे आने, न आने कि बातें करते थे… बस, सोचा करते थे कि जिस दिन तुम आओगे वो दिन कैसा होगा, उस दिन हम क्या करेंगे… भगवान् से प्रार्थना करते थे कि तुम जल्दी आ जाओ… पर आज सारा इंतज़ार ख़त्म हो गया, आज तुम आ गए…
पता है, ऐसा लगता था कि तुम्हारे इंतज़ार में आँखे भी पथरा जायेंगी, तन जल जायेगा, सब बंजर हो जायेगा…बीच में तुम आये तो थे, पर सिर्फ एक-दो दिनों के लिए बस… तब एक बार लगा तो था कि तुम आ गए, पर तब तुम जल्दी ही वापस भी चले गए… तब सब यही कहते थे, कि “अब यदि आना तो जाने के लिए मत आना…”
पर आज… आज फिर से सब तरफ ख़ुशी का माहौल है… तुम आये क्या, ऐसा लगा जैसे सभी की खुशियाँ लौट आयीं… बड़े-बूढ़े, जवान-किसान, यहाँ तक कि बच्चे भी… सब खुश हैं… तुम्हरी एक फुहार ने सबका इंतज़ार ख़त्म कर दिया… अब सबको यकीन हो गया कि तुम इस बार जाने के लिए नहीं आये… सभी ने भगवान को ढेर सारा धन्यवाद दिया…”
हाँ, आज हमारे शहर में बारिश हुई… बरसात के इस मौसम कि शुरुआत आखिर हो ही गयी… रोज़-रोज़ बस आसमान कि तरफ देख कर सभी इसका इंतज़ार कर रहे थे, गर्मी के कारण सब बस सुलझे ही जा रहे थे, परेशान थे कि न जाने इस साल कि बारिश कब आएगी… पर आखिरकार आज भगववान ने सभी की दुआएँ कबूल कर लीं… पर चलो देर से ही सही पर बारिश आई तो…

बड़ा अच्छा लगा जब मिट्टी की वो सौंधी खुशबू आई,
चारों तरफ के माहौल में ज़रा सी ठंडक लाई,
सड़कें धूलिं, पेड़-पत्ते धुले
सभी को छाते की ज़रुरत समझ आई…
सबके चेहरे खिल उठे, अचानक
तापमान नें भी कुछ कमी आई…
बारिश आई… देखो बारिश आई…

white dress and pink umbrella... my first choice... always...

white dress and pink umbrella... my first choice... always...

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

338 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

aditi kailash के द्वारा
June 18, 2010

अच्छी अभिव्यक्ति…..

sah के द्वारा
June 18, 2010

बेहद बेहतरीन कहानी.

rajkamal के द्वारा
June 18, 2010

na केवल आपको बल्कि और लोगो को मेरा शुक्रिया करना चाहिए.. .देख कर मेरे गम को आज आसमान भी इस कदर रोया है हुआ जहा तक मेरी आहो का असर अपने आंसूओ से धरती का दमन भिगोया है… या रब्ब तुने मुझको शायर बनाया है या कोई शोदाई यह बात मेरे तो क्या किसी की भी समझ में नहीं आई…

    Satchell के द्वारा
    July 12, 2016

    Thanks for that! It’s just the answer I neddee.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran